10/10/2018 - वाराणसी - आरती सिंह

वाराणसी: आईएमएस बीएचयू में एम्स जैसी सुविधाओं का रोडमैप तैयार

ims-bhu-at-varanasi

वाराणसी: मंगलवार को गवर्निंग बॉडी की टीम का दो दिवसीय दौरा आईएमएस बीएचयू में एम्स जैसी सुविधाएं मिलने को लेकर खत्म हो गया। वहीं यह भी माना जा रहा है कि फाइनल रोड मैप बनाया जा चुका है। प्रधानमंत्री कार्यालय को संबंधित प्रस्तावों पर विचार – विमर्श के बाद रिपोर्ट कार्यालय को दे दी जाएगी। विभागों में उपकरण सहित शोध की नई व्यवस्था के साथ ही अन्य मदों में अनुदान पीएमओ की मुहर लगने के बाद प्रारम्भ कर दी हो जाएगी।

अधिकारियों संग मिलकर किया विचार-विमर्श

टीम के सदस्यों ने सोमवार को सर सुंदरलाल अस्पताल, ट्रॉमा सेंटर और महामना मालवीय कैंसर इंस्टीट्यूट का दौरा करने के बाद स्थानीय अधिकारियों संग मिलकर विचार-विमर्श किया था। वहीं गवर्निंग बॉडी के चेयरमैन डॉ. वीके पॉल की अध्यक्षता में मंगलवार को आयोजित की गई बैठक में सभी संकायो में सुपर स्पेशियलिटी सुविधाएं, मरीजों की बेहतर देखभाल, पाठयक्रम विस्तार सहित कई अन्य मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की गई।

ग्लोबल स्टैंडर्ड का संस्थान बनाने की हुई बात

ग्लोबल स्टैंडर्ड का संस्थान बनाने की बात चेयरमैन ने आईएमएस को एम्स की सुविधाएं मिलने के बाद कही गई। साथ ही पांच वर्षों का प्रोजेक्ट बनाकर प्रत्येक वर्ष जरूरतों का पूरा करने की बात कही गई। साथ ही सदस्यों के सुझाव उन्होंने नए विभाग बनाने, अस्पताल में जांच, उसमें शुरू होने वाले कोर्स, इन सबके अनुरूप शिक्षकों-कर्मचारियों की तैनाती व संसाधन पूरा करने पर भी मांगे।

चर्चा के बिंदु इस प्रकार से रहे

हम आपको बताते चले कि ऐसा माना जा रहा है कि मानव संसाधन मंत्रालय सहित स्वास्थ्य मंत्रालय के माध्यम से चर्चा के मुद्दों और सुझावों पर विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर उसे पीएमओ के लिए भेजा जायेगा। कुलपति प्रो. राकेश भटनागर, आईएमएस से जुड़े संकायाें के प्रमुख, विभागों से भी एक-एक वरिष्ठ प्रोफेसर दो घंटे तक चली बैठक में सम्मलित हुए। इन सबसे पूर्व गवर्निंग बॉडी की टीम ने मरीजों को मिलने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी लेने के साथ ही जरूरी सुझाव आयुर्वेद संकाय की ओपीडी, अस्पताल की इमरजेंसी सहित अन्य वार्डों सहित अन्य जगहों का दौरा कर दिया। सभी संकायों को हर वर्ष प्रोजेक्ट बनाने सहित हर वर्ष के कोर्स को प्रोजेक्ट में सम्मलित करने सहित संसाधनों का ब्योरा भी देना होगा। साथ ही साथ सुपर स्पेशियलिटी जैसी सुविधाएं देने का निर्णय सभी विभागो में किया गया। हर वर्ष का लक्ष्य बनाकर 2022 तक उसे पूरा करना होगा।

माहौल को बनाया जाए पेशेंट फ्रेंडली

वहीं गवर्निंग बॉडी के चेयरमैन ने कहा कि मरीजों में किसी तरह का भेदभाव किए बिना अस्पताल का माहौल पेशेंट फ्रेंडली बनाया जाए जैसे सभी का इलाज हो, जांच हो, दवा मिले,साथ ही यह सब सुनियोजित हो।

मीडिया से चर्चा के बिंदु को सांझा ना करने की दी सलाह

बैठकों में हुई आईएमएस में एम्स जैसी सुविधाएं मिलने के बारे में जो बातचीत हुई है उसे मीडिया वार्ता में न बताने की सलाह भी दी गई। सूत्रों के अनुसार इससे जुड़े किसी भी मुद्दों पर बैठक में मीडिया से सांझा न करने को कहा गया।

अब तक के काम की रिपोर्ट चेयरमैन ने देखी

बीएचयू परिसर में सुपर स्पेशियलिटी सेंटर के काम की प्रगति से संबंधित रिपोर्ट मंगलवार को गवर्निंग बॉडी के चेयरमैन ने देखी। साथ ही चेयरमैन ने सीपीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर एके गुप्ता ने कहा कि इसका उद्घाटन जनवरी में पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा किया जा सकता है। गुणवत्ता परक काम इस वजह से निश्चित समय में पूरा करने की आवश्यकता है। अब तक चेयरमैन के पास सीपीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर काम की रिपोर्ट लेकर पहुंचते थे। वहीं हर मंजिल पर होने वाले काम, उसके लिए तय समय एवं मैटेरियल आदि की समस्त जानकारी चीफ इंजीनियर ने चेयरमैन को दी।

Comments
Made with ♥ in Varanasi | Hosted on BlueHost
Copyright © 2018 Five Alphabets